Featured post

उत्तर प्रदेश का सामान्य परिचय

चित्र
  उत्तर प्रदेश का सामान्य परिचय ,उत्तर प्रदेश भारत का एक राज्य है जो उत्तरी भारत में स्थित है। यह भारत का सबसे आबादी वाला राज्य भी है और गणराज्य उत्तर प्रदेश की राजधानी है। इसके प्रमुख शहरों में लखनऊ, आगरा, वाराणसी, मेरठ और कानपूर शामिल हैं। राज्य का इतिहास समृद्धि और सांस्कृतिक विविधता से भरपूर है, और यह भारतीय सांस्कृतिक इतिहास में अहम भूमिका निभाता है। उत्तर प्रदेश का पहला नाम क्या है ,उत्तर प्रदेश का पहला नाम "यूपी" है, जो इसे संक्षेप में पुकारा जाता है। यह नाम राज्य की हिन्दी में उच्चतम अदालत के निर्देशन पर 24 जनवरी 2007 को बदला गया था। उत्तर प्रदेश की विशेषता क्या है ,उत्तर प्रदेश की विशेषताएं विविधता, सांस्कृतिक धरोहर, ऐतिहासिक स्थलों, और बड़े पैम्पस के साथ जुड़ी हैं। यह भारतीय सांस्कृतिक इतिहास में अहम भूमिका निभाता है और कई प्रमुख धार्मिक और सांस्कृतिक स्थलों का घर है, जैसे कि वाराणसी, अयोध्या, मथुरा, और प्रयागराज। राज्य में विविध भौगोलिक और आधिकारिक भाषा हिन्दी है। यह भी भारत के सबसे बड़े राज्यों में से एक है जो आबादी में अग्रणी है। इसे भी जाने उत्तर प्रदेश की मु

Pradosh Vrat 2023 - तिथि, विधि और पूरे वर्ष के लिए प्रदोष व्रत का महत्व

 

दोस्तों आज हम इस लेख  के जरिए जानेंगे कि ( प्रदोष व्रत कब से शुरू करें 2023 ) इसमें बताना सबसे जरुरी यह हैं "  Pradosh Vrat 2023 - तिथि, विधि और पूरे वर्ष के लिए प्रदोष व्रत का महत्व, नीचे लिखे गए है  "प्रदोष उपवास 2023 दिनांक भारत में साठी in Hindi , और " (Krisna) - कृष्ण पक्ष प्रदोष व्रत, (shukal) - शुक्ल पक्ष प्रदोष व्रत, और "विभिन्न प्रकार के प्रदोष व्रत और उससे होने वाले लाभ, सभी के बारे में सब कुछ बताया गया है आइए जानते हैं


प्रदोष उपवास 2023 दिनांक भारत में साठी in Hindi

प्रदोष व्रत कब से शुरू करें 2023

बुधवार, 04 जनवरी प्रदोष व्रत (शुक्ल)


प्रदोष व्रत कब से शुरू करें 2023

गुरुवार, 19 जनवरी प्रदोष व्रत (कृष्ण)


प्रदोष व्रत कब से शुरू करें 2023

गुरुवार, 02 फरवरी प्रदोष व्रत (शुक्ल)


प्रदोष व्रत कब से शुरू करें 2023

शनिवार, 18 फरवरी प्रदोष व्रत (कृष्ण)


शनिवार, 04 मार्च  प्रदोष व्रत (शुक्ल)

रविवार, 19 मार्च प्रदोष व्रत (कृष्ण)

सोमवार, 03 अप्रेल  प्रदोष व्रत (शुक्ल)

सोमवार, 17 अप्रेल प्रदोष व्रत (कृष्ण)

बुधवार, 03 मई  प्रदोष व्रत (शुक्ल)

बुधवार, 17 मई  प्रदोष व्रत (कृष्ण)

गुरुवार, 01 जून प्रदोष व्रत (शुक्ल)

गुरुवार, 15 जून प्रदोष व्रत (कृष्ण)

शनिवार, 01 जुलाई  प्रदोष व्रत (शुक्ल)

शुक्रवार, 14 जुलाई प्रदोष व्रत (कृष्ण)

रविवार, 30 जुलाई प्रदोष व्रत (शुक्ल)

रविवार, 13 अगस्त प्रदोष व्रत (कृष्ण)

सोमवार, 28 अगस्त प्रदोष व्रत (शुक्ल)

मंगळवार, 12 सितम्बर प्रदोष व्रत (कृष्ण)

बुधवार, 27 सितम्बर प्रदोष व्रत (शुक्ल)

बुधवार, 11 अक्टूबर प्रदोष व्रत (कृष्ण)

गुरुवार, 26 अक्टूबर प्रदोष व्रत (शुक्ल)

शुक्रवार, 10 नवम्बर प्रदोष व्रत (कृष्ण)

शुक्रवार, 24 नवम्बर प्रदोष व्रत (शुक्ल)

रविवार, 10 दिसम्बर प्रदोष व्रत (कृष्ण)

रविवार, 24 दिसम्बर प्रदोष व्रत (शुक्ल)


*  (Krisna) - कृष्ण पक्ष प्रदोष व्रत, (shukal) - शुक्ल पक्ष प्रदोष व्रत


  प्रदोष व्रत को हम त्रयोदशी व्रत के नाम से भी जानते हैं।  यहां आपको 2023 में आने वाले प्रदोष व्रत की तिथि मिलेगी। यह व्रत देवी पार्वती और भगवान शिव को समर्पित है।  पुराणों के अनुसार इस व्रत को करने से उत्तम स्वास्थ्य और लंबी आयु की प्राप्ति होती है।  शास्त्रों के अनुसार प्रदोष व्रत साल में कई बार आता है।  आमतौर पर यह व्रत महीने में दो बार आता है।


  प्रदोष व्रत क्या है?

  त्रयोदशी हर महीने के कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष को मनाई जाती है।  प्रत्येक पक्ष के त्रयोदशी के व्रत को प्रदोष व्रत कहा जाता है।  सूर्यास्त के बाद और रात के आने से पहले के समय को प्रदोष काल कहा जाता है।  इस व्रत में भगवान शिव की पूजा की जाती है।  हिंदू धर्म में व्रत, पूजा, व्रत आदि को बहुत महत्व दिया गया है। ऐसा माना जाता है कि सच्चे मन से व्रत करने से व्यक्ति को मनचाहा फल मिलता है।  वैसे तो हिंदू धर्म में हर महीने की हर तारीख को कोई न कोई व्रत या व्रत होता है, लेकिन इन सभी में प्रदोष व्रत की काफी मान्यता है.


Pradosh Vrat 2023


  शास्त्रों के अनुसार माह के दोनों पक्षों की त्रयोदशी तिथि की संध्या के समय को प्रदोष कहते हैं।  ऐसा माना जाता है कि प्रदोष के दौरान भगवान शिव कैलाश पर्वत पर स्थित अपने रजत भवन में नृत्य करते हैं।  इसलिए लोग शिव को प्रसन्न करने के लिए इस दिन प्रदोष व्रत रखते हैं।  इस व्रत को करने से सभी कष्ट और सभी प्रकार के दोष दूर हो जाते हैं।  कलियुग में प्रदोष व्रत करना बहुत शुभ होता है और शिव कृपा प्रदान करते हैं।  सप्ताह के सातों दिन किए जाने वाले प्रदोष व्रत का विशेष महत्व है।  प्रदोष को कई जगहों पर अलग-अलग नामों से जाना जाता है।  दक्षिण भारत में लोग प्रदोष को प्रदोष के नाम से जानते हैं।


विभिन्न प्रकार के प्रदोष व्रत और उससे होने वाले लाभ

  प्रदोष व्रत का अलग-अलग दिन के अनुसार अलग-अलग महत्व है।  कहा जाता है कि जिस दिन यह व्रत आता है उसके अनुसार इसका नाम और महत्व बदल जाता है।


  प्रदोष व्रत के निम्नलिखित लाभ अलग-अलग समय के अनुसार प्राप्त होते हैं-


 ● जो उपासक रविवार के दिन प्रदोष व्रत करते हैं, उनकी आयु बढ़ती है, उन्हें अच्छे स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं।


 ● सोमवार के प्रदोष व्रत को सोम प्रदोषम या चंद्र प्रदोषम भी कहा जाता है और मनोकामना पूर्ति के लिए किया जाता है।


 ● वे प्रदोष व्रत जो मंगलवार के दिन रखे जाते हैं उन्हें भौम प्रदोष कहा जाता है।  इस दिन व्रत रखने से सभी प्रकार के रोगों से मुक्ति मिलती है और स्वास्थ्य संबंधी कोई परेशानी नहीं होती है।  बुधवार के दिन इस व्रत को करने से सभी प्रकार की मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।


 ● गुरुवार के दिन प्रदोष व्रत करने से शत्रुओं का नाश होता है।


 ● जो लोग शुक्रवार के दिन प्रदोष व्रत करते हैं, उनके जीवन में सौभाग्य की वृद्धि होती है और दाम्पत्य जीवन में सुख-शांति का आगमन होता है।


 ● शनिवार के दिन पड़ने वाले प्रदोष व्रत को शनि प्रदोषम कहा जाता है और लोग संतान प्राप्ति की कामना से इस दिन यह व्रत करते हैं।  अपनी मनोकामनाओं को ध्यान में रखते हुए प्रदोष व्रत करने से निश्चित ही फल की प्राप्ति होती है।


  प्रदोष व्रत का महत्व

  प्रदोष व्रत को हिंदू धर्म में बहुत ही शुभ और महत्वपूर्ण माना जाता है।  इस दिन पूरी भक्ति के साथ भगवान शिव की पूजा करने से व्यक्ति के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं और मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है।  पुराणों के अनुसार एक प्रदोष व्रत का फल दो गायों के दान के बराबर होता है।  इस व्रत का महत्व वेदों के महान विद्वान सुतजी ने गंगा नदी के तट पर स्थित शौनकड़ी ऋषियों को बताया था।  उन्होंने कहा था कि कलियुग में जब अधर्म की जीत होगी, लोग धर्म का मार्ग छोड़कर अन्याय के मार्ग पर चलेंगे, उस समय प्रदोष व्रत एक ऐसा माध्यम बन जाएगा जिससे वे शिव की पूजा करके अपने पापों का प्रायश्चित कर सकेंगे।  और उनके सभी कष्टों से छुटकारा पाएं।  दूर कर सकते हैं सबसे पहले भगवान शिव ने माता सती को इस व्रत का महत्व बताया, उसके बाद महर्षि वेद व्यास जी ने सूत जी को इस व्रत के बारे में बताया, जिसके बाद सूत जी ने शौनकड़ी ऋषियों को इस व्रत की महिमा के बारे में बताया।  था।


  प्रदोष व्रत को अन्य व्रतों की अपेक्षा अधिक शुभ और महत्वपूर्ण माना जाता है।  ऐसी भी मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव की पूजा करने से जीवन में किए गए सभी पाप नष्ट हो जाते हैं और मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है।  पुराणों के अनुसार एक प्रदोष व्रत करने का पुण्य दो गायों का दान करने के समान है।


  इस व्रत में व्रत को निर्जल रखना होता है।  सुबह स्नान के बाद बेल पत्र, गंगाजल, अक्षत धूप के दीपक से भगवान शिव की पूजा करें।  शाम को फिर से स्नान करने के बाद उसी तरह शिव की पूजा करें।  इस प्रकार प्रदोष व्रत करने से व्यक्ति को पुण्य की प्राप्ति होती है।


प्रदोष व्रत विधि


  प्रदोष व्रत पूजा के समय के लिए शाम का समय अच्छा माना जाता है क्योंकि हिंदू कैलेंडर के अनुसार शाम के समय सभी शिव मंदिरों में प्रदोष मंत्र का जाप किया जाता है।

  आइए आपको बताते हैं प्रदोष व्रत के नियम और विधि-

 ● प्रदोष व्रत का पालन करने के लिए सबसे पहले आपको त्रयोदशी के दिन सूर्योदय से पहले उठना चाहिए।

 ● स्नान आदि कर लेने के बाद साफ कपड़े पहन लीजिये ।

 ● उसके बाद आप बेल पत्र, अक्षत, दीपक, धूप, गंगाजल आदि से भगवान शिव की पूजा करें।

● इस प्रदोष व्रत में भोजन  नहीं करने होते  है।

● पूरे दिन का व्रत करने के बाद सूर्यास्त से कुछ समय  पहले दुबारा से स्नान करें जिसके बाद सफेद रंग के वस्त्र  पहनें।

● पूजा स्थल को स्वच्छ जल या गंगा जल से शुद्ध करना चाहिए।

● अब गाय का गोबर लें और उसकी सहायता से मंडप तैयार करें।

 ● पांच भिन्न-भिन्न रंगों की मदद से आप मंडप के भीतर में रंगोली बना सकते हो.

● पूजा की सभी तैयारियां करने के बाद आप उत्तर-पूर्व दिशा की ओर मुंह करके कुश आसन पर बैठ जाएं।

● भगवान भोले शिव के मंत्र ओम नमः शिवाय का जाप करेंगे और उसके बाद शिव जी को जल अर्पित करें।

  धार्मिक दृष्टि से जिस भी दिन प्रदोष व्रत करना हो उस वार के अंतर्गत आने वाली त्रयोदशी को चुनकर उस वार की निर्धारित कथा को पढ़ व सुन लें।


  प्रदोष व्रत का उद्यान


● जो साधक ग्यारह या 26 त्रयोदशी तक इस व्रत को रखते हैं, उन्हें इस व्रत को विधिपूर्वक करना चाहिए।

 ● त्रयोदशी तिथि को ही व्रत का उद्यापन करना चाहिए।

 ● उद्यापन करने से एक दिन पहले भगवान गणेश की पूजा की जाती है।  और उद्यापन से पहले की रात कीर्तन करते हुए जागरण करते हैं।

● अगले दिन प्रातःकाल मंडप बनाना होता है और उसे वस्त्रों और रंगोली से सजाया जाता है।

● ओम उमा के साथ मंत्र का 108 बार जाप करते हुए शिवाय नमः किया जाता है।

● हवन में चढ़ाने के लिए खीर का प्रयोग किया जाता है।

 ● हवन समाप्त होने के बाद, भगवान शिव की आरती और शांति का पाठ किया जाता है।

 ● और अंत में दो ब्राह्मणों को भोजन कराया जाता है और वे अपनी इच्छा और क्षमता के अनुसार दक्षिणा देकर उनका आशीर्वाद लेते हैं।


प्रदोष व्रत कथा


  किसी भी व्रत को करने के पीछे निश्चित रूप से कुछ पौराणिक महत्व और कहानी है।  तो आइए जानते हैं इस व्रत की कथा के बारे में-

  स्कंद पुराण में दी गई एक कथा के अनुसार यह प्राचीन काल की बात है।  एक विधवा ब्राह्मण अपने पुत्र के साथ प्रतिदिन भीख मांगने जाता था और शाम को लौट जाता था।  हमेशा की तरह, एक दिन जब वह भिक्षा लेकर लौट रही थी, तो उसने नदी के किनारे एक बहुत ही सुंदर बच्चा देखा, लेकिन ब्राह्मण को यह नहीं पता था कि बच्चा कौन है और किसके पास है।


  दरअसल उस बच्चे का नाम धर्मगुप्त था और वह विदर्भ देश का राजकुमार था।  उस बच्चे के पिता, जो विदर्भ देश के राजा थे, युद्ध में दुश्मनों द्वारा मारे गए और राज्य को अपने नियंत्रण में ले लिया।  धर्मगुप्त की माता का भी पिता के शोक में निधन हो गया और शत्रुओं ने धर्मगुप्त को राज्य से निकाल दिया।  बच्चे की हालत देखकर ब्राह्मण ने उसे गोद ले लिया और अपने बेटे की तरह उसका पालन-पोषण किया।

  कुछ दिनों बाद, ब्राह्मण अपने दोनों बच्चों को देवयोग से देव मंदिर ले गया, जहाँ उसकी मुलाकात ऋषि शांडिल्य से हुई।

  ऋषि ने ब्राह्मण को बच्चे के अतीत यानी उसके माता-पिता की मृत्यु के बारे में बताया, जिसे सुनकर ब्राह्मण बहुत दुखी हो गया।  ऋषि ने ब्राह्मण और उनके दोनों पुत्रों को प्रदोष व्रत करने की सलाह दी और उससे जुड़े सभी अनुष्ठानों के बारे में बताया।  ब्राह्मणों और बच्चों ने ऋषि द्वारा बताए गए नियमों के अनुसार व्रत किया, लेकिन उन्हें नहीं पता था कि इस व्रत का परिणाम क्या हो सकता है।

  कुछ दिनों के बाद, दोनों लड़के एक वन अभयारण्य कर रहे थे, तभी उन्हें वहां कुछ गंधर्व लड़कियां दिखाई दीं जो बहुत सुंदर थीं।  राजकुमार धर्मगुप्त अंशुमती नाम की एक गंधर्व कन्या की ओर आकर्षित हुए।  कुछ समय बाद राजकुमार और अंशुमती दोनों एक दूसरे को पसंद करने लगे और लड़की ने राजकुमार को अपने पिता गंधर्वराज से शादी के लिए मिलने के लिए बुलाया।  जब लड़की के पिता को पता चला कि लड़का विदर्भ देश का राजकुमार है, तो उसने भगवान शिव की अनुमति से दोनों का विवाह करा दिया।

  राजकुमार धर्मगुप्त का जीवन वापस बदलने लगा।  उसने बहुत संघर्ष किया और फिर से अपनी गंधर्व सेना तैयार की।  राजकुमार ने विदर्भ देश पर पुनः अधिकार कर लिया।

  कुछ समय बाद उन्हें पता चला कि उन्होंने अतीत में जो कुछ भी हासिल किया है वह ब्राह्मणी और राजकुमार धर्मगुप्त द्वारा किए गए प्रदोष व्रत का परिणाम है।  उनकी सच्ची पूजा से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उन्हें जीवन की सभी परेशानियों से लड़ने की शक्ति दी।  उस समय से हिंदू धर्म में यह मान्यता बन गई है कि जो कोई भी प्रदोष व्रत के दिन शिव की पूजा करता है और प्रदोष व्रत की कथा को ध्यान से सुनता है और पढ़ता है, उसे सौ जन्मों तक कभी भी किसी समस्या या गरीबी का सामना नहीं करना पड़ेगा।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न और उत्तर क्या है?

प्रदोष व्रत के नियम (What are the rules of Pradosham)

प्रदोष व्रत हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण व्रत है, जो सोमवार और शुक्रवार को किया जाता है। यह व्रत भगवान शिव को समर्पित होता है। यहां इस व्रत के कुछ महत्वपूर्ण नियम हैं:

प्रदोष व्रत को सोमवार और शुक्रवार को ही किया जाना चाहिए।

इस व्रत के दौरान निराहार व्रत रखा जाना चाहिए। यानी दोपहर तक कुछ नहीं खाया जाना चाहिए और फिर उसके बाद भोजन कर सकते हैं।

इस व्रत में शिवलिंग पर जल अभिषेक करना चाहिए।

इस व्रत में शिव मंत्र का जाप करना चाहिए।

इस व्रत में शिव पूजन करना चाहिए।

इस व्रत के दौरान शुभ कार्य नहीं करने चाहिए।

इस व्रत को स्थायी रूप से रखने से शिव की कृपा प्राप्त होती है।

ये थे कुछ महत्वपूर्ण नियम, जो प्रदोष व्रत के दौरान अपनाए जाने चाहिए।

प्रदोष व्रत के लाभ (Benefits of Pradosh Vrat)


प्रदोष व्रत करने से मनुष्य को अनेक आश्चर्यजनक लाभ प्राप्त होते हैं। इस व्रत के कुछ महत्वपूर्ण लाभ निम्नलिखित हैं:

शिव की कृपा प्राप्ति: प्रदोष व्रत करने से मनुष्य को भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है। इस व्रत के द्वारा शिव को समर्पित होने से मनुष्य के जीवन में खुशहाली और समृद्धि की प्राप्ति होती है।

मन को शांति मिलती है: प्रदोष व्रत करने से मनुष्य का मन शांत होता है। इस व्रत के द्वारा मनुष्य को अधिक ध्यान करने की शक्ति मिलती है जो उसे संतुलित जीवन जीने में मदद करती है।

शरीर का शुद्धिकरण: प्रदोष व्रत करने से शरीर का शुद्धिकरण होता है। यह व्रत शरीर के विभिन्न अंगों के लिए फायदेमंद होता है और उन्हें अधिक शक्ति देता है।

धन की प्राप्ति: प्रदोष व्रत करने से मनुष्य की धन प्राप्ति होती है। इस व्रत के द्वारा शिव को समर्पित होने से मनुष्य को धन संबंधी समस्याओं से छुटकारा मिलता है।
परिवार के सुख-समृद्धि बना रहता हैं.

प्रदोष व्रत कितने रखने चाहिए (How long should Pradosh Vrat be observed)


प्रदोष व्रत को हर माह की प्रदोष के दिन (दो पक्षीय माह के 13वें दिन या तिथि) रखा जाता है। इसे शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष के प्रदोष व्रत के नाम से भी जाना जाता है। इस व्रत को 16 सप्ताह (अथवा 192 हफ्ते) तक किया जा सकता है, जिससे शिव की कृपा को अधिक प्राप्ति होती है।

प्रदोष व्रत कौन रख सकता है (Who can observe Pradosh Vrat)

प्रदोष व्रत को शिव भक्त ही रख सकते हैं। इस व्रत को खासकर पौराणिक काल से ही महत्व दिया जाता रहा है और भगवान शिव के भक्त इस व्रत को अत्यंत श्रद्धा और भक्ति से रखते हैं। इस व्रत के नियमों और विधियों को जानना भी जरूरी होता है, जो अधिकतर पौराणिक ग्रंथों में उल्लेखित होते हैं।

प्रदोष व्रत में क्या खाएं और क्या नहीं (What to eat and what not to eat during Pradosh Vrat)

प्रदोष व्रत में शिव भक्तों को कुछ विशेष आहार खाने की सलाह दी जाती है जो व्रत के नियमों और विधियों के अनुसार होते हैं। इस व्रत में शिव भक्तों को निम्नलिखित आहार खाने की सलाह दी जाती है:

फल (जिनमें कम से कम सैकड़ा बेलपत्र होना चाहिए)

दूध और दूध से बनी चीजें (जैसे कि दही, पनीर, रबड़ी, केसर के दूध आदि)

मेवे (जैसे कि अंजीर, किशमिश, काजू, खजूर, खरबूजे के बीज आदि)

शक्कर, शहद, घी, तेल आदि

शाकाहारी भोजन (जैसे कि दाल, चावल, सब्जियां, रोटी आदि)

प्रदोष व्रत में कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन वर्जित होता है जैसे कि मांस, मछली, अंडे, नॉनवेज खाद्य पदार्थ, अल्कोहल, तम्बाकू आदि। इसके अलावा, प्रदोष व्रत के दौरान नमक का उपयोग भी वर्जित होता है।

2023 का पहला प्रदोष व्रत कब है (When is the first Pradosh Vrat of 2023)


2023 का पहला प्रदोष व्रत 13 अप्रैल, बुधवार को है।

प्रदोष व्रत के नियम क्या है (What are the rules of Pradosh Vrat)

प्रदोष व्रत शिव भक्तों द्वारा रखा जाने वाला एक महत्वपूर्ण व्रत है। इस व्रत में शिव भक्तों को कुछ विशेष नियमों और विधियों का पालन करना चाहिए। निम्नलिखित हैं प्रदोष व्रत के मुख्य नियम:

व्रत की तारीख और समय: प्रदोष व्रत को पूर्ण व्रत या अर्ध व्रत के रूप में रखा जा सकता है। पूर्ण व्रत में, व्रत की शुरुआत संध्या के वक्त की जाती है और उसे संध्योपासना के साथ पूरा किया जाता है। अर्ध व्रत में, व्रत की शुरुआत संध्या के बाद की जाती है और व्रत संध्या के उत्तरार्ध तक चलता है।

निषिद्ध आहार: व्रत के दौरान निषिद्ध आहार जैसे मांस, मछली, अंडे, नॉनवेज खाद्य पदार्थ, अल्कोहल, तम्बाकू, नमक आदि का सेवन वर्जित होता है।

पूजा और जप: व्रत के दौरान शिव पूजा की जाती है और उसमें शिवलिंग पूजा, शिव सहस्रनाम स्तोत्र, शिव महिम्नस्तोत्र और मन्त्र जप शामिल होते हैं।

आरती: व्रत के दौरान शिव आरती का भी पाठ किया जाता हैं.

प्रदोष के दिन क्या नहीं करना चाहिए (What should not be done on the day of Pradosh)

प्रदोष व्रत के दिन शिव भक्तों को कुछ विशेष नियमों का पालन करना चाहिए और कुछ गलतियों से बचना चाहिए। निम्नलिखित हैं प्रदोष व्रत के दिन नहीं करने चाहिए वाली चीजें:

नहाना: व्रत के दिन शाम को नहाने से बचना चाहिए।

अहंकार और ईर्ष्या: व्रत के दिन आपको दूसरों के ऊपर अहंकार और ईर्ष्या नहीं करना चाहिए।

अनाहार: व्रत के दिन अनाहार करने से बचना चाहिए और व्रत के नियमों का पालन करना चाहिए।

अतिरिक्त काम: व्रत के दिन अतिरिक्त काम नहीं करना चाहिए और ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

नकारात्मक विचार: व्रत के दिन नकारात्मक विचारों से बचना चाहिए और सकारात्मक सोच और विचार को बढ़ावा देना चाहिए।

प्रदोष व्रत कितने साल तक करना चाहिए (For how many years Pradosh Vrat should be observed)

प्रदोष व्रत की अवधि:प्रदोष व्रत धार्मिक दृष्टिकोण से बहुत महत्वपूर्ण होता है और इसे अपने जीवन का एक अंग बनाना चाहिए। हालांकि, इस व्रत की अवधि स्थान और परंपरा के आधार पर भिन्न हो सकती है। आमतौर पर, इस व्रत की अवधि 16 सोमवारों तक होती है, जो एक समय में लगभग 4 महीने का होता है।

यह अवधि किसी भी व्यक्ति या समुदाय के अनुसार भिन्न हो सकती है। कुछ लोग इस व्रत को अपने पूरे जीवन तक करते हैं, जबकि कुछ लोग इसे एक महीने तक ही करते हैं। इसलिए, इस व्रत की अवधि को अपनी आवश्यकताओं और स्थान के आधार पर तय किया जा सकता है।

अन्य व्रतों की तरह, प्रदोष व्रत भी आपके आध्यात्मिक उन्नति और स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होता है। इसलिए, इसे जीवन का अंग बनाकर आप इसका लाभ ले सकते हैं।

क्या हम प्रदोष व्रत में दूध पी सकते हैं (Can we drink milk during Pradosh Vrat)

व्रत में दूध - शाकाहारी आहार:प्रदोष व्रत विशेष रूप से हिन्दू धर्म में मान्यता प्राप्त है। इस व्रत के दौरान व्रती व्यक्ति कुछ विशेष आहार खाते हैं जैसे कि फल, सब्जियां, दाल आदि जो शाकाहारी होते हैं।

दूध एक पौष्टिक आहार होता है जो शाकाहारी व्रत के दौरान भी आप खा सकते हैं। हालांकि, कुछ लोग इसे शाकाहारी आहार में नहीं शामिल करना पसंद करते हैं। वैसे भी, व्रत के दौरान आपको शाकाहारी आहार का सेवन करना होता है इसलिए दूध एक उत्तम विकल्प हो सकता है।

इसके अलावा, प्रदोष व्रत के दौरान आपको अन्य वस्तुओं का सेवन नहीं करना चाहिए जैसे कि अनाज, नमक, तेल आदि। इसलिए, यदि आप दूध का सेवन करना चाहते हैं तो सुनिश्चित करें कि वह अन्य व्रत नियमों के अनुसार हो रहा है।

प्रदोष व्रत में भोजन कब करना चाहिए (When should food be taken during Pradosh Vrat)

प्रदोष व्रत के दौरान भोजन का समय संध्या काल के बाद होता है। संध्या काल का समय विभिन्न भागों में अलग-अलग होता है और इसे सूर्यास्त के बाद का समय माना जाता है। संध्या काल का समय रोजाना बदलता रहता है, इसलिए आपको अपने स्थान के संध्या काल के समय का पता होना आवश्यक होता है।

प्रदोष व्रत के दौरान भोजन का समय संध्या काल के कुछ समय बाद होता है। इस समय को 'प्रदोष काल' भी कहा जाता है और यह व्रत के महत्वपूर्ण अंगों में से एक होता है। प्रदोष काल का समय संध्या काल के लगभग दो घंटे बाद होता है। इसलिए, आपको संध्या काल के बाद प्रदोष काल में भोजन करना चाहिए।

ध्यान रखें कि व्रत के दौरान आपको अन्य वस्तुओं का सेवन नहीं करना चाहिए जैसे कि अनाज, नमक, तेल आदि। व्रत के दौरान आपको शाकाहारी आहार का सेवन करना चाहिए। इसलिए, आप इस व्रत के दौरान शाकाहारी आहार का सेवन करें और संध्या काल के बाद प्रदोष काल में भोजन करें।

प्रदोष व्रत रखने से क्या फायदा मिलता है (What is the benefit of keeping Pradosh Vrat)

प्रदोष व्रत हिंदू धर्म में एक प्रसिद्ध व्रत है जो महत्त्वपूर्ण धार्मिक उत्सवों में से एक है। यह व्रत संध्या के समय एक साथ गंगाजल, दूध, दही आदि से शिवलिंग पूजा करने के रूप में मनाया जाता है।

प्रदोष व्रत रखने से विभिन्न तरह के फायदे मिलते हैं। इनमें से कुछ निम्नलिखित हैं:

आत्मशुद्धि: प्रदोष व्रत रखने से मानसिक शांति मिलती है और व्यक्ति का आत्मशुद्धि होता है। यह व्रत अशुभता और दुष्टता से बचाने में मदद करता है और व्यक्ति को एक ऊँची आध्यात्मिक दर्जा तक पहुँचाता है।

शारीरिक स्वास्थ्य: प्रदोष व्रत का पालन करने से शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार होता है। इस व्रत के दौरान आप आहार को संयमित रखते हैं और इससे आपके पाचन तंत्र को आराम मिलता है। इस व्रत के फलस्वरूप शरीर में शुद्ध वातावरण बना रहता है जो अन्य असाध्य रोगों से लड़ने में मदद करता है।

संतान प्राप्ति: इस व्रत से संतान प्राप्ति होती हैं.

प्रदोष का व्रत कब खोलना चाहिए (When should Pradosh's fast be broken)

प्रदोष व्रत को संध्या के समय शिवलिंग पूजा करके रखा जाता है और इसे विसर्जन नहीं किया जाता है। प्रदोष व्रत का विसर्जन अगली संध्या के समय होता है और विसर्जन के बाद व्रत खोला जाता है।

इसलिए, प्रदोष व्रत को विसर्जित करने का समय अगली संध्या के समय होता है। यदि आप प्रदोष व्रत का पालन कर रहे हैं, तो विसर्जन के बाद व्रत खोलने का समय अगली संध्या के बाद होगा।

उदाहरण के लिए, अगर आपने सोमवार की संध्या को प्रदोष व्रत रखा है, तो विसर्जन मंगलवार की संध्या को होगा और व्रत खोलने का समय बुधवार की संध्या को होगा।

प्रदोषम पर हमें क्या करना चाहिए (What should we do on Pradosham)

प्रदोष अमावस्या या पूर्णिमा के दिन शिवलिंग की पूजा और व्रत का आयोजन किया जाता है। इस दिन कुछ आसान उपायों को अपनाकर हम अपनी भक्ति व पूजा को विशेष बना सकते हैं। कुछ उपाय निम्नलिखित हैं:

शिवलिंग की पूजा करें: प्रदोषम के दिन शिवलिंग की पूजा करना बहुत महत्वपूर्ण होता है। शिवलिंग को जल चढ़ाकर, धूप दीप लगाकर, फूल चढ़ाकर और मन्त्र जप करके पूजा की जाती है।

महामृत्युंजय मंत्र का जाप करें: प्रदोषम के दिन महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना बहुत शुभ माना जाता है। इस मंत्र को जप करने से आपकी शारीरिक और मानसिक रोगों से निजात मिलती है।

भगवान शिव के नाम का जाप करें: प्रदोषम के दिन भगवान शिव के नाम का जाप करना बहुत शुभ माना जाता है। आप इसके लिए शिव के साथ संबंधित मंत्रों का जाप कर सकते हैं।

दान करें: प्रदोषम के दिन दान करना बहुत महत्वपूर्ण होता है। आप ग्रामीण क्षेत्रों में गरीबों को अन्न दान कर सकते हैं.

प्रदोष का व्रत महीने में कितनी बार आता है (How many times does Pradosh's fast come in a month)

प्रदोष व्रत मासिक रूप से मार्गशीर्ष और कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाया जाता है। यानि हर माह में दो बार प्रदोष व्रत का आयोजन होता है।

प्रदोष व्रत में कितने दीपक जलाना चाहिए (How many lamps should be lit during Pradosh Vrat)

प्रदोष व्रत में दीपकों की संख्या तीन होती है। इन तीन दीपकों में से दो दीपक शिव और पार्वती को समर्पित होते हैं, जबकि तीसरा दीपक यमराज के लिए होता है। इसलिए, प्रदोष व्रत में तीन दीपक जलाए जाते हैं।

सर्वश्रेष्ठ व्रत कौन सा है (Which is the best fast)

हिंदू धर्म में कई प्रकार के व्रत होते हैं जो भगवान की पूजा और उनसे कृपा और आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए किए जाते हैं। यह व्रत धर्म, आध्यात्मिकता और सामाजिक नैतिकता को स्थापित करने में मदद करते हैं। यह समूचे हिंदू समाज के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

व्रत की श्रेणी की बात करें तो भक्त अपनी उत्सुकता के आधार पर अपने लिए उपयुक्त व्रत का चयन करते हैं। हालांकि, कुछ ऐसे व्रत होते हैं जो विशेष रूप से महत्वपूर्ण माने जाते हैं।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी और शिवरात्रि जैसे व्रत जो प्रत्येक साल मनाए जाते हैं, हिंदू धर्म में सबसे अधिक महत्वपूर्ण माने जाते हैं। इसके अलावा, नवरात्रि, गणेश चतुर्थी, दीपावली जैसे व्रत भी महत्वपूर्ण माने जाते हैं।

सर्वश्रेष्ठ व्रत का चयन व्यक्ति के आधार पर अलग-अलग होता है। आपके लिए सर्वश्रेष्ठ व्रत आपकी आस्था, धार्मिक उत्सुकता और आध्यात्मिक अनुभवों पर निर्भर करता है।

प्रदोष में लोग व्रत क्यों करते हैं (Why do people fast in Pradosh)

प्रदोष एक हिंदू धर्म का पवित्र दिन होता है जो हर माह के दूसरे तिथि को आता है। इस दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है और लोग उनके नाम का जप करते हैं। प्रदोष व्रत का महत्व भगवान शिव के भक्तों के लिए बहुत उच्च होता है।

प्रदोष का व्रत करने से शिव भक्तों को बड़े पुण्य की प्राप्ति होती है। इस दिन शिव जी भक्तों की मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं और उनके अभाव में उन्हें सब कुछ देते हैं जो उन्हें चाहिए। व्रत के दौरान लोग निरंतर भगवान शिव का जप करते हुए उनकी पूजा करते हैं और उन्हें ध्यान में रखते हुए उनकी कृपा के लिए प्रार्थना करते हैं।

इसके अलावा, प्रदोष व्रत करने से शरीर और मन दोनों को शुद्धि मिलती है जो स्वास्थ्य और मनोशांति के लिए बहुत लाभदायक होता है। व्रत के दौरान आहार की विशेष व्यवस्था की जाती है और ध्यान और तपस्या के माध्यम से मन को नियंत्रित करने का प्रयास किया जाता है।

प्रदोष व्रत की पूजा कैसे की जाती है (How to worship Pradosh Vrat)

प्रदोष व्रत हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण व्रत है जो हर माह के दूसरे चांद को मनाया जाता है। इस दिन भगवान शिव की पूजा की जाती है और उनसे कृपा और आशीर्वाद प्राप्त करने का उद्देश्य होता है। इस व्रत में दोपहर के समय भगवान शिव की पूजा की जाती है।

प्रदोष व्रत की पूजा करने के लिए निम्नलिखित सामग्री की आवश्यकता होती है:

शिवलिंग

धूप, दीप, इलायची, लौंग, कपूर, सुपारी, अखरोट, पंचामृत (दूध, दही, घी, शहद और तुलसी के रस)

फल, फूल और नैवेद्य

पूजा की शुरुआत शिवलिंग को साफ़ पानी से धोकर की जाती है। फिर, शिवलिंग को फूलों, फलों और नैवेद्य सहित सजाया जाता है। धूप और दीप जलाकर भगवान शिव को आराधना की जाती है। पूजा के दौरान, भजन और मंत्रों का उच्चारण करना भी शुभ माना जाता है।

इसके अलावा, शिव पुराण या शिव महापुराण के विभिन्न अध्यायों का पाठ भी किया जाता है। 

इस महीने का दूसरा प्रदोष व्रत कब है (When is the second Pradosh Vrat of this month)

इस महीने का दूसरा प्रदोष व्रत दिनांक 12 अप्रैल 2023 को होगा।

प्रदोष कब कब होता है (When does Pradosh happen)

प्रदोष व्रत हर माह के दूसरे चांद्रवाली को मनाया जाता है। यह व्रत दोपहर के समय भगवान शिव की पूजा करने के लिए रखा जाता है। इसलिए, प्रत्येक माह में दो दिन प्रदोष व्रत होते हैं।

इससे भी अधिक सुविधा के लिए, मैं इस समय की तारीखों की कुछ उदाहरण दे रहा हूं:

2023 में, पहला प्रदोष 29 मार्च को होगा और दूसरा प्रदोष 12 अप्रैल को होगा।

2024 में, पहला प्रदोष 17 जनवरी को होगा और दूसरा प्रदोष 31 जनवरी को होगा।

2025 में, पहला प्रदोष 5 फरवरी को होगा और दूसरा प्रदोष 20 फरवरी को होगा।

इस तरह से, हर महीने में दो प्रदोष होते हैं। 

एक और भी जानकारी 

सदा सुहागन रहने के लिए कौन सा व्रत करना चाहिए (Which fast should be observed to remain happy forever)

सुहागन रहने के व्रत:सदा सुहागन रहने के लिए, शास्त्रों में कुछ व्रतों का महत्व बताया गया है। यह व्रत धार्मिक उद्देश्यों के साथ-साथ सामाजिक और आर्थिक उद्देश्यों की पूर्ति के लिए भी किया जाता है।

कुछ उपयुक्त व्रतों में से एक है "संतान गौरी व्रत"। इस व्रत को दुर्गा शुक्ला पक्ष की तृतीया से शुरू करते हैं और 16 शुक्ल पक्ष की तृतीया तक किया जाता है। इस व्रत को नियमित रूप से करने से सुहागन स्त्रियों को धन, समृद्धि, सुख, सम्मान और सुखी वैवाहिक जीवन की प्राप्ति होती है।

इसके अलावा, कुछ और व्रत भी होते हैं जो सदा सुहागन रहने के उद्देश्य से किए जाते हैं। ये व्रत निम्नलिखित हो सकते हैं:

  • करवा चौथ व्रत
  • हरतालिका तीज व्रत
  • अक्षय तृतीया व्रत
  • वट सावित्री व्रत
  • सोमवती अमावस्या व्रत

यदि आप सदा सुहागन रहना चाहती हैं, तो आप इन व्रतों में से किसी भी एक व्रत को धार्मिक नियमों के अनुसार नियमित रूप से कर सकती हैं।



  हम आशा करते हैं कि वर्ष 2023 में पड़ने वाले प्रदोष व्रत की तिथियों की जानकारी आपके लिए उपयोगी सिद्ध होगी।  साथ ही यहां दी गई सभी जानकारी आपके ज्ञान को बढ़ाएगी।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

खाटू श्याम के चमत्कार | खाटू श्याम का इतिहास

रूपमती का अकेलापन | desi kahani

संघर्ष से सफलता की कहानी | success struggle motivational quotes in hindi